तातापानी बलरामपुर छतीसगढ़ : क्या आपने सोचा है जमीन से भी गर्म पानी निकल सकता है, जी हाँ आपने सही पढ़ा। जमीन से गर्म पानी छतीसगढ़ राज्य का एक छोटा सा जिला बलरामपुर जो गर्म जल श्रोत का महत्वपूर्ण स्थान है और गर्म जल के कारण दुनिया भर में प्रसिद्ध है तो आज हम इस लेख में बलरामपुर जिले में स्थित तातापानी के बारे में जानेंगे।

Tatapani: बलरामपुर में स्थित तातापानी के बारे में जानकारी

तातापानी बलरामपुर

प्राकृतिक गर्म पानी के लिए पूरे देश में पहचाने जाने वाला तातापानी बलरामपुर जिला मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर दूर स्थित है तातापानी जो प्राकृतिक रूप से निकलते गरम पानी के लिए प्रदेशभर में प्रसिद्ध है। बारह महीनों तक गर्म पानी जमीन से जलाशयों में बहता रहता है। स्थानीय बोली में ताता का अर्थ होता है “गर्म”। इसी वजह से इस स्थान को तातापानी नाम दिया गया है।

कहा जाता है कि भगवान राम ने खेल-खेल में सीताजी को पत्थर मारा था और सीता माता के हाथ में उबलते तेल का कटोरा था। जो जमीन पर गिर पड़ा और जहाँ-जहाँ तेल की बूंदें पड़ी वहां से गर्म पानी धरती से फूटकर निकलने लगा। यह स्थान स्थानीय लोगों के लिए पवित्र है, और ऐसा माना जाता है कि वहां गर्म पानी में स्नान करने से चर्म रोग ठीक हो जाते हैं। इस खूबसूरत नजारे को देखने और गर्म पानी के कुंड का आनंद लेने के लिए राज्य भर से लोग जाते हैं।

तातापानी का जल इतना गर्म होता है की पानी से हमेशा कोहरा उठते रहता है और जब लोग वहाँ जाते है तो प्लास्टिक में बांध कर अंडा, चावल इस गर्म जल में डाल देते है और वहाँ का पानी बहुत गरम होने के कारण अंडा, आलू , चावल पक जाता है।

इस जगह को लेकर स्थानीय लोगों की कई मान्यता हैं लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है की वहाँ की मिट्टी में सल्फर की मात्रा बहुत ज्यादा है और इसी सल्फर की वजह से वहाँ की पानी गर्म हो जाता है। यहाँ तक की पानी और मिट्टी से भी सल्फर की गंध आती है।

नोट:- मंदिर परिसर में जो कुंड बना है उसमें अंडा उबलना मना है,लेकिन मंदिर परिसर के बाहर लोग अंडा, आलू उबाल लेते हैं।

तातापानी शिव मंदिर

वहाँ भगवान शिव जी का एक विशाल प्रतिमा है और साथ ही शिव मंदिर में लगभग चार सौ वर्ष पुरानी मूर्ति स्थापित है। जिनका दर्शन और मनोकामना की आशा लेकर हर वर्ष मकर सक्रांति के पर्व पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु और पर्यटक जाते हैं।

तातापानी मेला

तातापानी में मकर सक्रांति के दौरान विशाल तीन दिवसीय मेला आयोजित किया जाता है जहां आगंतुक झूलों, मीना बाजार और अन्य दुकानों का आनंद लेते हैं। अगर आप तातापानी देखने जाने का मन बना रहें हैं तो आपको मकर सक्रांति में जाना चाहिए।

तातापानी फोटो


तातापानी कब और कैसे जाये

तातापानी बलरामपुर वैसे तो आप किसी भी मौसम में जा सकते है सभी समय वहाँ का पानी गर्म रहता है सभी मौसम में वहाँ जाना अच्छा है लेकिन ठंडी का मौसम घूमने के लिए सबसे अच्छा होता है और साथ ही प्राकृतिक सौंदर्य का भी लाभ उठा सकते है और साथ ही मेला का आनंद लेना चाहते है तो मकर सक्रांति के समय आपको वहाँ जाना चाहिए।

  • निकटतम हवाई:- छत्तीसगढ़ में रायपुर स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डे या झारखंड में रांची बिरसा मुंडा हवाई अड्डा है।
  • निकटतम रेलवे स्टेशन:- अंबिकापुर रेलवे स्टेशन जो की बलरामपुर से लगभग 92 किलोमीटर दूर है, और गढ़वा रोड रेलवे स्टेशन जो की बलरामपुर से लगभग 72 किलोमीटर दूर है।
  • अपनी सुविधा:- अंबिकापुर गढ़वा राष्ट्रीय राजमार्ग 343 पर, तातापानी बलरामपुर जिले में स्थित है। आप अपनी सुविधा से भी वहाँ तक पहुँच सकते हैं।

तातापानी के आस-पास घुमने की जगह

सेमरसोत अभ्यारण:- अंबिकापुर और रामानुजगंज के बीच सड़क पर, सेमरसोत अभ्यारण अंबिकापुर से लगभग 58 किलोमीटर दूर है। इसकी रेंज इस बात से शुरू होती है कि यह कितनी दूर फैली है। संदूर, सेमरसोत, चेतन और सासु नदियाँ सभी इस क्षेत्र में बहती हैं, इसलिए, इसे सेमरसोत नाम दिया गया था। सेमरसोत जंगल में बांस की संख्या बहुत हैं। सेमरसोत अभ्यारण का आकार लगभग 430.36 वर्ग किलोमीटर है। इस अभ्यारण की सुंदरता पेड़ों, की बहुत सी प्रजाति के कारण और भी बढ़ जाता है। तेंदुए, गौर, नीलगाय, चीतल, सांभर, कोटरा, बेटा कुत्ते, सियार और भालू जैसे जंगली जानवरों को भी देखा जा सकता है। अभ्यारण में वन विभाग द्वारा विंग टॉवर बनाया गया है ताकि लोग प्रकृति कितनी सुंदता को देख सकें।

पवई वॉटरफॉल:- यह झरना सेमरसोट अभ्यारण में चानन नदी के पास है। लगभग 100 फीट से नीचे गिरता है। लोग वहां मस्ती और खेल समेत कई कारणों से जाते हैं। यह जंगलों के बीच में है इसलिए आपको लगभग 1.5 किमी चलना पड़ता है। यह घूमने के लिए एक बेहतरीन जगह है, इसके चारों ओर जंगल के खूबसूरत नज़ारे दिखाई देते हैं।

इन्हें भी देखें:-

छत्तीसगढ़ में घूमने की जगह के बारे में जानकारी


तातापानी से सम्बंधित सवाल जवाब

तातापानी किस जिले में है?

तातापानी छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले में है।

तातापानी क्यों प्रसिद्ध है?

तातापानी  प्राकृतिक रूप से निकलते गरम पानी के लिए प्रदेशभर में प्रसिद्ध है।

तातापानी से निकलने वाला पानी गर्म क्यों होता है ?

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस क्षेत्र में सल्फर कि मात्रा अधिक है इसी वजह से यहाँ से निकलने वाला पानी गर्म होता है। 

आज के इस लेख में हमने बलरामपुर में स्थित तातापानी के बारे में जाना, यदि आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।