धुआंधार जलप्रपात: जबलपुर मध्य प्रदेश का ऐसा शहर है जो भारत के केंद्र में स्थित है जिसे सबसे पत्थरीला शहर माना जाता है यह मध्य प्रदेश का तीसरा सबसे बड़ा नगर है जबलपुर 52 ताल तलैयों का शहर तथा सांस्कृतिक राजधानी कहा जाता है। यह सांस्कृतिक के अलावा अपने पर्यटन स्थल के लिए भी जाना जाता है और इसकी खूबसूरती को देखने दुनियाँ भर से लोग जाते है।

क्या आप जलप्रपात के पानी से धुँआ उठते हुए देखा या सुना है? अगर नही सुना है तो इस लेख में बने रहे और जाने की क्या सच में जलप्रपात के पानी से धुँआ उठता है। जी हाँ धुआंधार जलप्रपात वैसे तो नाम से ही पता चल रहा है। वहाँ पानी का बहाव इतना तेज होता है की पानी की छोटी-छोटी बुँदे हवा में उड़ने लगते है ये धुँआ के समान दिखाई देती है इसलिए इस वॉटरफॉल का नाम धुआँधार जलप्रपात पड़ा।

धुआँधार जलप्रपात

धुआँधार जलप्रपात न केवल जबलपुर बल्कि पूरे मध्य प्रदेश में एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। लगभग 10 मीटर की ऊंचाई से गिरने हुए यह झरने अपनी अलग ही छटा बिखैरती है। यह नर्मदा नदी पर स्थित जलप्रपात है। शानदार संगमरमर की चट्टानों से बहती हुई खूबसूरत झरने पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। जो झरने के सफेदी रंग को जोड़ता है। धुंआधार जलप्रपात एक प्राकृतिक स्वरुप है जिसे राज्य के पर्यटन प्रशासन द्वारा खूबसूरती से संरक्षित किया गया है।

झरने की सुंदरता, आभा की शांति और जादुई धुन इसे न केवल जबलपुर में बल्कि पूरे भारत में सबसे अच्छे झरनों में से एक बनाती है। जब यह झरना किसी बड़ी धारा के साथ गिरता है तो पानी गिरने की आवाज काफी दूर से सुनी जा सकती है। उस स्थान पर धुंध या धुंआ इसी जलप्रपात के गिरने के कारण होता है। इसलिए इसका नाम धुआँधार जलप्रपात पड़ा है। जलप्रपात एक मनमोहक रूप से सुंदर स्थान है जो पूरे वर्ष बड़ी संख्या में आगंतुकों को आकर्षित करता है। जबलपुर शहर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह जलप्रपात अपनी सुन्दरता के कारण प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है।

कलकल करती झरने की आवाजें कानों को संगीत की तरह लगती हैं। यह सब इसे एक सुन्दर पिकनिक स्थान बनाता है। पर्यटकों के लिए हिंदू देवताओं की संगमरमर की मूर्तियां, हस्तशिल्प और ट्रिंकेट आदि की दुकानें लगती है। जलप्रपात का आनंद लेने के साथ खरीदारी भी कर सकते हैं।

धुआँधार लप्रपात संचालन का समय :- यह स्थान सुबह 6:00am बजे से रात 8:00pm बजे तक खुला रहता है। लेकिन केबल कार 10 AM – 6 PM तक चलता है।

धुआँधार लप्रपात प्रवेश शुक्ल :- फॉल्स के लिए प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता है।

जबलपुर के स्मोकी वाटरफॉल में करने के लिए चीजें
आगंतुक अपनी यात्रा को और भी यादगार बनाने के लिए कुछ रोमांचक गतिविधियों में भाग ले सकते हैं।

केबल कार :- झरने के पूर्व और पश्चिम दोनों ओर केबल कार से पहुंच सकते है। यह धुआँधार जलप्रपात के एक छोर से दूसरे छोर तक जाती है। ऊपर से नजारा मनमोहक होता है।भेड़ाघाट बिंदु पर उपलब्ध रोपवे आगंतुकों को जबलपुर के धुआँधार झरने के दूसरी तरफ देखने का भी अच्छा मौका देता है। इसके अलावा, प्रत्येक व्यक्ति को लगभग INR 80-90 का भ्रमण शुल्क देना होता है।

नदी किनारे पिकनिक :- धुआँधार जलप्रपात का परिवेश मनमोहक है। यह सबसे अच्छे पिकनिक स्थलों में से एक है जहाँ आप अपने परिवार, बच्चों और दोस्तों के साथ समय बिता सकते हैं।

धुआँधार जलप्रपात का फोटो


धुआँधार फॉल्स देखने का सबसे अच्छा समय

धुआँधार झरने की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय राज्य के नर्मदा महोत्सव शरद पूर्णिमा के दौरान होता है। इसके लिए आप जबलपुर पर्यटन पैकेज देख सकते हैं। यदि आप कभी भी जाने का मन बना रहे है तो अक्टूबर से मार्च का महिना सबसे अच्छा है। अप्रैल से मई के महीने चिलचिलाती धूप के साथ गर्मी होते हैं, और मानसून के महीने खतरनाक होते हैं क्योंकि इस क्षेत्र में पानी का भारी प्रवाह होता है।

धुआँधार फॉल्स कैसे जाएँ

हवाई जहाज से:- जलप्रपात का निकटतम हवाई अड्डा जबलपुर हवाई अड्डा है, यहाँ से लगभग एक घंटे की यात्रा करके धुआँधार फॉल्स पहुँच सकते है। वहाँ से उचित मूल्य पर टैक्सी भी ली जा सकती है।

ट्रेन से:- निकटतम रेलवे स्टेशन जबलपुर रेलवे स्टेशन है, जो धुआँधार फॉल्स से लगभग 20 किलोमीटर दूर है।

सड़क द्वारा:- जबलपुर से धुआँधार जलप्रपात के लिए राज्य परिवहन आसानी से उपलब्ध हो जाती है। या अपनी नीजी वाहन से भी जा सकते है।

रिक्शा/कैब:- जबलपुर से ऑटो रिक्शा और कैब आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं।

धुआँधार के आसपास के झरने :- धुआँधार जलप्रपात देखने के बाद जबलपुर में आप भेड़ाघाट जलप्रपात भी देख सकते है जो धुंधार जलप्रपात (NH34 द्वारा) से लगभग 45 मिनट की दूरी पर है। यह झरना गौर नदी के ऊपर बना है, जिसे नर्मदा की सहायक नदियों में से एक माना जाता है। भेड़ाघाट जलप्रपात काले और भूरे रंग के शिलाखंडों के साथ-साथ सुन्दर घाटियों से घिरा हुआ है, जो इसे प्रकृति प्रेमियों के लिए एक आदर्श स्थान बनाता है।

इन्हें भी देखें

सवाल जवाब

धुआंधार जलप्रपात कहां है?

धुआंधार जलप्रपात जबलपुर में है।

भेड़ाघाट पर कौन सा जलप्रपात स्थित है?

भेड़ाघाट पर धुआंधार जलप्रपात स्थित है।

धुआंधार जलप्रपात किस नदी पर है?

यह जलप्रपात नर्मदा नदी पर स्थित है।

धुआंधार जलप्रपात की ऊंचाई कितनी है?

धुआंधार जलप्रपात की ऊंचाई लगभग 10 मीटर है।